कलेक्टरस्वतंत्रता दिवस के मौके पर केरल के पल्लकड़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के ध्वजारोहण करने पर रोक लगाने वालीं कलेक्टर का ट्रांसफर कर दिया गया हैं. पल्लकड़ की कलेक्टर पी. मेरीकुथी ने आदेश दिया था कि कोई भी राजनीतिक व्यक्ति स्कूल में ध्वजारोहण नहीं कर सकता लेकिन उनकी रोक के बावजूद भी मोहन भागवत ने ध्वजारोहण किया था.

वही कलेक्टर की ट्रांसफर पर केरल सरकार ने कहा कि यह एक रूटीन ट्रांसफर हैं और सिर्फ उनका ही नहीं बल्कि ४ अन्य कलेक्टरों का भी ट्रांसफर हुआ हैं. सुरेश बाबू को पल्लकड़ का नया कलेक्टर नियुक्त किया गया हैं. मोहन भागवत के तिरंगा फहराने के बाद मेरीकुथी ने सरकार को दी गई रिपोर्ट में कहा था कि मोहन भागवत पर केस दर्ज होना चाहिए. उन्होंने पुलिस को इसके निर्देश भी दे दिए थे. हालांकि आरएसएस ने भागवत का बचाव करते हुए कहा कि स्कूल प्रशासन की मर्जी के बाद ही उन्होंने ऐसा किया था.

कलेक्टर का आदेश था कि स्कूल में केवल उससे जुड़ा व्यक्ति या फिर कोई चुना हुआ व्यक्ति ही झंडा फहराए. गौरतलब हैं कि बीजेपी और आरएसएस पिछले काफी समय से केरल में अपनी पैठ बनाने में लगी हैं. केरल में संघ कार्यकर्ताओं पर हमले और हत्या के मामलों में भी बढ़ोतरी हुई हैं. आरएसएस ने पहली बार २००२ में नागपुर में तिरंगा फहराया था और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी केरल में बीजेपी नेताओं के खिलाफ होने वाले हादसों को लेकर कई बार सार्वजनिक मंचों से आवाज उठा चुके हैं| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here