जीएसटीमाल एवं सेवा कर काउंसिल ने अपनी २२वीं बैठक में छोटे कारोबारियों और निर्यातकों को राहत दी हैं और वही कई चीजों के टैक्स स्लैब में कटौती भी की हैं. टैक्स स्लैब में कटौती से चीजें सस्ती होंगी और आम आदमी को महंगाई से राहत मिलेगी. बैठक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि परिषद की सिफारिशों के बाद माल एवं सेवा कर व्यवस्था और सरल हो गई है.

उन्होंने कहा कि यह नागरिकों के हितों की रक्षा और देश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि सुनिश्चित करने के लिये सरकार के निरंतर प्रयासों के अनुरूप है. उन्होंने व्यापक रूप से प्रतिक्रया के लिए विभिन्न पक्षों को जोड़ने को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली और उनकी टीम को बधाई दी और कहा कि इसी वजह से आज ये सिफारिशें आई हैं. बता दें कि जीएसटी लागू किए जाने के तीन महीने बाद ये बदलाव किए गए हैं. तो जानिए इस बैठक के बाद क्या-क्या हुआ सस्ता

१२ से फीसद हुई वस्तुओं में नमकीन, आयुर्वेदिक, यूनानी, सिद्ध, होमियोपैथी, दवाइयां, पेपर वेस्ट या स्क्रैप, रियल जरी
१८ से फीसद हुई वस्तुओं में गरीबों के निर्मित भोजन, प्लास्टिक वेस्ट, रबर वेस्ट, पेरिंग, कांच के स्क्रैप, लकड़ी का कोयला
१८ से १२ फीसद हुई वस्तुओं में कपड़ा, नाइलोन, पॉलिस्टर, विस्कोस, रेयॉन, सिलाई के मानव निर्मित धागे, स्टैपल फाइबर
२८ से फीसद हुई वस्तुओं में ई-वेस्ट २८ से १८ फीसद हुई वस्तुओं में वॉटर पंप, डीजल इंजन के पॉर्ट्स, बेयरिंग, स्टेशनरी के सामान, ग्रेनाइट और मार्बल को छोड़कर फर्श में इस्तेमाल होने वाले पत्थर,  पोस्टर कलर, बच्चों के मनोरंजक की वस्तुएँ| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here