khanaअब होटलों में हर एक ग्राहकों की थाली में कितना खाना परोसा जाए यह भी सरकार तय करने जा रही है इसके दो पहलु हैं पहला- होटलों में खाने की बर्बादी कम करना दूसरा-लोग जितना खाएं, उसी का पैसा चुकाएं नियम लागू होने के बाद मेन्यू में परोसे जाने वाले खाने की मात्रा कितनी होगी ये भी लिखा होगा नियम बनाने से पहले देशभर में सर्वे कर सभी पक्षों से जानकारी ली जा रही हैं इसमें लोगों की खुराक, कितना खाना छोड़ते हैं, क्या एक ही आइटम के आॅर्डर पर अलग-अलग जगहों पर अलग मात्रा मिलती है इसी से जुड़े २५ से ३० सवाल होंगे। मामले में कन्ज्यूमर मिनिस्ट्री के एक अफसर ने बताया कि ज्यादा मात्रा में खाना परोसे जाने की कीमत लोग क्यों चुकाएं?

अगर क्वांटिटी कम होगी तो कीमत भी कम होगी। किसी को ज्यादा चाहिए तो दोबारा ले सकता है। ये नियम ६ महीने में लागू होने के अनुमान है ढाबों और छोटे होटलों को रहेगी इससे छूट
khanaएक हिन्दी अखबार से बातचीत में कंज्यूमर अफेयर्स मिनिस्टर रामविलास पासवान 
ने ये बताया की 
प्र.क्यों लाई गई ये योजना ?
उ.हाल ही में प्रधानमंत्री ने मन की बात में इसका जिक्र किया था। तब हमने इस पर काम शुरू किया।
प्र.खाने की मात्रा सरकार कैसे तय कर सकती है? सबकी खुराक अलग होती है।
उ. मोटे तौर पर हर व्यक्ति के खाने की मात्रा करीब-करीब बराबर होती है। हां, कोई चावल ज्यादा खाता है तो कोई रोटी। बाकी में बहुत कम अंतर होता है। हम सभी पक्षों से बात करके ही मात्रा तय करेंगे। जिसे ज्यादा खाना है, वह दोबारा ऑर्डर कर सकता है।
प्र.होटल अगर हाफ प्लेट के लिए पूरी कीमत वसूले तो…
उ. होटलों में हाफ प्लेट तो मिलना चाहिए और कीमत भी फुल प्लेट से कम होनी चाहिए। सभी पक्ष इससे सहमत होंगे।

प्र.ढाबों का क्या होगा?
उ. ढाबों पर नियम लागू नहीं होगा। वहां पर पहले से ही हाफ प्लेट या कटिंग दाल-सब्जी का सिस्टम है। नई व्यवस्था स्टार होटलों और बड़े रेस्तरां के लिए होगी।
प्र.कहा जा रहा है कि होटल इंडस्ट्री सहमत नहीं है?
उ.हम अकेले नियम तय नहीं करेंगे। सभी स्टेकहोल्डर्स से बात करके ही मात्रा तय करेंगे। इसमें होटल इंडस्ट्री तो शामिल होगी ही। यह विश्वास दिलाता हूं कि इंडस्ट्री पर कोई उलटा असर नहीं पड़ेगा।
प्र.क्या इसे अपनाने वालों को सहूलियत भी मिलेगी?
उ. क्यों नहीं, अगर कोई भोजन की बर्बादी रोकने में सफल होता है तो उसे खुद फायदा होगा। इसके साथ ही हम भी प्रोत्साहन पत्र सहित कुछ कदम उठा सकते हैं।
khanaबड़े होटलों में परोसा जाता है ज्यादा खाना
न्यूट्रिशिस्ट नीतू झा के मुताबिक, एक दिन में एक आदमी को २ हजार कैलोरी और महिलाओं को १५०० से १८०० कैलोरी की जरुरत
होती हैं एक वक्त के खाने में एक शख्स को ७५ ग्राम आटा या तीन रोटी, ३० ग्राम दाल, ३५ ग्राम सब्जी, २५ ग्राम सलाद और ५० ग्राम दही भरपूर है। बड़े होटलों में इस लिहाज से ज्यादा खाना दिया जाता है।
फेडरेशन आॅॅॅफ एसोसिएशन्स इन इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी के सेक्रेटरी सईद एम शेरवानी ने बताया कि सरकार ने सभी स्टेकहोल्डर्स से बातचीत करने का भरोसा दिलाया है। इस बातचीत के बाद ही हम कह पाएंगे कि वह क्या चाहते हैं और हमारा क्या मत है। पर सबसे अहम सवाल है कि जो भी नियम बनेगा उसे अमल में कैसे लाया जाएगा। खबर दैनिक भास्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here