बिखरते हुए दिख रहा हैं पाकिस्तान, एलओसी सीजफायर उल्लंघन मामलों में, कश्मीर में बढ़े आतंकी हमलों और कुलभूषण जाधव की फाँसी की सजा को ले भारत और पाकिस्तान के बीच गहमा गहमी हैं. ऐसे में भारत ने पाकिस्तान के गलतियों के खिलाफ डिप्लोमेसी को पहले विकल्प के रूप में चुना है और इसका असर भी दिखना शुरू हो गया है. मोदी सरकार की एग्रेसिव डिप्लोमेसी से न सिर्फ भारत बल्कि दो और पड़ोसी देश ईरान और अफगानिस्तान पाकिस्तान के खिलाफ खुलकर सामने आए हैं

कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के मामले पर पाकिस्तान को इंटरनेशनल कोर्ट से झटका मिला आईसीजे ने फांसी की सजा पर रोक लगाते हुए इस मामले की सुनवाई १५ से शुरू होगी १५ बार जाधव के काउंसलर एक्सेस की भारत की अपील को पाकिस्तान ने खारिज कर दिया. इसके बाद भारत ने डिप्लोमेसी का रास्ता चुना और अब पाकिस्तान अलग-थलग होते हुए दिखाई दे रहा हैं

अफगानिस्तान बॉर्डर पर पाकिस्तानी सैनिकों के साथ मुठभेड़ चरम पर है. पाकिस्तानी सेना ने दावा किया कि बॉर्डर पर पाकिस्तान के एक्शन में ५० अफगानी सैनिक मारे गए इस बीच, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने पाकिस्तान यात्रा का आमंत्रण भी ठुकरा दिया. और पिछले साल सार्क बैठक के बहिष्कार की भारत की अपील पर भी अफगानिस्तान ने पाकिस्तान में सार्क बैठक का बहिष्कार किया था

पाकिस्तान के एक और पड़ोसी देश ईरान ने पाकिस्तान की धरती से फैलाए जा रहे आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को सीधे धमकी तक दे डाली है. ईरान ने पाकिस्तान को आतंकियों को काबू में रखने को कहा. साथ ही कहा कि ऐसा नहीं होने पर ईरान के सैनिक पाकिस्तान में घुसकर कार्रवाई कर सकते हैं उरी हमले के बाद पिछले साल भारत ने पाकिस्तान में होने वाले सार्क सम्मेलन का बहिष्कार किया था.

सार्क के बाकी सदस्यों ने भी पाकिस्तान में होने वाली इस बैठक से दूरी बना ली थी. क्षेत्रीय ताकतों ने आतंकवाद पर भारत की चिंताओं का समझ समर्थन किया और पाकिस्तान को सम्मेलन रद्द करना पड़ा और पिछले हफ्ते भारत ने सार्क देशों के लिए ४५० करोड़ की लागत से सैटेलाइट लॉन्च किया था. इसमें पाकिस्तान को शामिल नहीं किया गया है. बांग्लादेश, अफगानिस्तान, नेपाल समेत तमाम देशों के नेताओं ने सार्क सैटेलाइट को क्षेत्रीय विकास के लिए भारत का बड़ा कदम बताया. यहां तक कि चीनी मीडिया ने भी चीन को इस परियोजना से जोड़ने की मंशा जताई थी. खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here