बैठकबिहार में चल रहे सियासी घमासान के बीच आज मुख्यमंत्री नीतिश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव अपनी-अपनी पार्टी नेताओं के साथ बैठक करेंगे और बैठक में नीतीश कुमार कोई कड़ा फैसला भी ले सकते हैं नीतीश ने तेजस्वी को सफाई देने के लिए शनिवार शाम तक का समय दिया था लेकिन उपमुख्यमंत्री ने न तो सफाई दी और न ही इस्तीफा

इसी को देखते हुए ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं कि आज सरकारी आवास पर होने वाली बैठक में नीतीश कुमार कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं हांलाकि कि राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख ने अपने बेटे तेजस्वी के इस्तीफे से साफ इनकार कर दिया और लालू यादव का यह रुख नया नहीं १९९० के दौरान जब वह बिहार के मुख्यमंत्री थे तो समूचा विपक्ष चारा घोटाले के आरोप में उनसे इस्तीफे की मांग कर रहा था लेकिन लालू ने तब तक इस्तीफा नहीं दिया जब तक कि कोर्ट ने उनके खिलाफ ऑर्डर जारी नहीं किया लालू यादव ने १९९७ में कोर्ट द्वारा उनकी गिरफ्तारी का आदेश जारी किए जाने के बाद इस्तीफा दिया और मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ने पर उन्होंने बाग़-डोर अपनी पत्नी राबड़ी देवी को सौंप दी और इस समय भी लालू अपनी इसी पुरानी रणनीति पर काम करते हुए नजर आ रहे हैं.

दो दशको बाद आज उनकी पार्टी लगभग उसी स्थिति में है लेकिन अब सरकार गठबंधन की हैं उधर, नीतीश कुमार की पार्टी ने अल्टीमेटम देते हुए साफ कर दिया की या तो तेजस्वी अपने ऊपर लगे आरोपों का प्रामाणिक जवाब दें या इस्तीफा दें और जेडीयू से जुड़े सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चाहते हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस मामले का समाधान कराएं व कुछ समय पहले जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने भी एनडीटीवी से कहा था कि पार्टी ने तेजस्वी के इस्तीफे के लिए कोई डेडलाइन तय नहीं की है लेकिन यह संकेत जरूर दे दिया था कि नीतीश कुमार की बेदाग छवि से समझौता नहीं किया जाएगा| खबर एनडीटीवी इंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here