नीरव और चौकसी को वापस पंजाब नैशनल बैंक में हुए १२,६०० करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े में आरोपी नीरव और चौकसी को वापस भारत लाएगी सरकार. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने टाइम्स नेटवर्क के इंडिया इकनॉमिक कॉन्क्लेव के चौथे संस्करण में गुरुवार को यह बात कही की नीरव और चौकसी को वापस ले आएगी सरकार. उन्होंने दावा किया कि एनडीए ने भ्रष्टाचार रहित सरकार दी हैं. रक्षा मंत्री ने कहा की हमें इसके लिए सावधान रहना होगा कि सिस्टम ऐसी कमियों को बढ़ने का मौका न दे.

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी भाग गए हैं, हम उन्हें वापस ले आएंगे. अपने उद्घाटन भाषण में निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार सुधारों के लिए तैयार हैं और उन्होंने गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स को ‘बोल्ड’ कदम बताया हैं. मोदी सरकार के दौरान सुधार के लिए उठाए गए कदमों का जिक्र करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा की जीएसटी में शुरुआती कुछ समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन सरकार ने इसे सफलतापूर्वक लागू किया हैं इसे रद्द करने के लिए कई तरह के दबावों का सामना किया,

लेकिन सरकार सुधार के लिए प्रतिबद्ध हैं और जीएसटी जैसे ‘बोल्ड’ फैसले लेने की हिम्मत रखती हैं. ‘नीरव और चौकसी को वापस लाएगी सरकार’ और अपने स्वागत भाषण में टाइम्स ग्रुप के एमडी विनीत जैन ने कहा कि बैंक स्कैम्स सभी के लिए वेक-अप कॉल हैं और सरकार भी तुरंत प्रतिक्रिया देते हुए फ्यूगेटिव इकनॉमिक ऑफेंडर्स बिल के साथ आगे आई, जो विलफुल डिफॉल्टर्स की नाक में नकेल का काम करेगा. उन्होंने कहा, ‘लेकिन यह भी डर हैं कि कॉर्पोरेट्स को उधार देने में बैंक ज्यादा सावधानियां बरत सकते हैं.

सरकार को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि ईमानदार बिजनसमैन को ऐसी समस्याओं का सामना न करना पड़े क्योंकि इससे उसकी तरक्की पर चोट होगी. कॉन्क्लेव में बातचीत के दौरान निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार में भ्रष्टाचार जैसा कोई भी तत्व नहीं है और सरकार के सभी फैसले नीति निर्धारित हैं न कि विवेक पर आधारित. उन्होंने कहा भ्रष्टाचार मुक्त सरकार का मतलब हैं कि पैसा सही जगह और सही लोगों के लिए खर्च हो रहा हैं.

उन्होंने कहा कि डिजिटाइजेशन से लोगों को सीधा फायदा मिला हैं. केंद्रीय मंत्री ने सरकार द्वारा फ्रांस से खरीदे गए राफेल फाइटर्स की कीमत का खुलासा न करने के फैसले का भी बचाव किया. उन्होंने कहा कि ‘राहुल गांधी इस सरकार के खिलाफ कुछ ढूंढ रहे हैं, लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिलेगा क्योंकि सरकार भ्रष्टाचार मुक्त हैं. यदि राफेल की कीमत का खुलासा होता हैं तो यह दुश्मन देशों की मदद करने जैसा होगा. मुझे उम्मीद हैं कि जनता इसका उद्देश्य समझेगी जबकि कांग्रेस सिर्फ मुद्दे को गरम रखने के लिए यह सवाल पूछ रही हैं| खबर नवभारत टाइम्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here