सौर ऊर्जा फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों भारत के दौरे पर आए हैं और उन्होंने सोमवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर मिर्जापुर में सौर ऊर्जा संयत्र का उद्घाटन किया. इस दौरान दोनों नेताओं के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाइक व अन्य लोग मौजूद रहे. मिर्जापुर के बाद दोनों नेता पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी जाएंगे. दादर कलां मे स्थापित सौर ऊर्जा परियोजना प्रदेश की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना हैं. ७५ मेगावाट के इस सोलर प्लांट पर करीब ५६० करोड़ रुपया खर्च हुआ हैं.

इस संयत्र से रोजाना पांच लाख यूनिट बिजली उत्पादन का लक्ष्य हैं. जिससे करीब डेढ़ लाख परिवारों को बिजली मिल सकेगी. इस परियोजना की स्थापना उत्तर प्रदेश नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा विकास अभिकरण नेडा और फ्रेंच कंपनी सोलर डायरेक्ट की ओर से की गई हैं. इसे नेशनल ग्रिड से जोड़ा जाएगा. ये संयंत्र करीब ३८८ एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ हैं. यूपी के ऊर्जा मंत्री बृजेश पाठक ने बताया कि यह सोलर प्लांट उत्तर प्रदेश के लिए मिसाल होगा.

उन्होंने कहा कि यूपी प्रधानमंत्री की इच्छा के अनुरूप वैकल्पिक ऊर्जा उत्पादित करने में पूरी तरह से लगा हुआ हैं और मुझे पूरी उम्मीद हैं कि जो लक्ष्य हमें मिला हैं उसको हम जल्दी ही प्राप्त कर लेंगे. इससे पहले रविवार को राष्ट्रपति मैक्रों और पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन का उद्घाटन किया था. राष्ट्रपति भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में २३ देशों के प्रमुखों और १० मंत्रीस्तरीय प्रतिनिधियों की मौजूदगी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मैक्रों ने आईएसए सम्मेलन का उद्घाटन किया था| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here