खन्ना

अगले महीने साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाली सीरीज के मद्देनजर बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने कल कहा कि बोर्ड को कप्तान विराट कोहली के व्यस्त कार्यक्रम के विचार पर गंभीरता से आकलन करने की जरूरत हैं क्योंकि अगले महीने भारत का साउथ अफ्रीका के खिलाफ उसकी सरजमीं पर होने वाली सीरीज की तैयारी के लिए बहुत ही कम समय बचा हैं. खन्ना यह भी चाहते हैं कि बोर्ड सदस्य इतने कम समय में लगातार तीन सीरीज रखने के फैसले पर भी ध्यान दें और खन्ना ने कहा की विराट कोहली भारतीय कप्तान हैं और क्रिकेट से जुड़े मामलों में उनके विचारों को पूरी गंभीरता से देखा जाना चाहिए.

हमें टीम के प्रदर्शन पर गर्व हैं लेकिन खिलाड़ी थके हुए महसूस कर रहे हो तो हमें इस मुद्दे पर भी विचार करने की जरूरत हैं उन्होंने कहा मुझे लगता हैं कि हमें आकलन करना चाहिए कि क्या खिलाड़ियों को बिना ब्रेक दिए लगातार तीन सीरीज आयोजित करना अच्छा विकल्प हैं या नहीं और इस मामले को उचित मंच पर उठाया जाना चाहिए. यह अच्छा होगा यदि इस मुद्दे को ९  दिसंबर को होने वाली आम सभा बैठक में शामिल किया जाए. भारतीय क्रिकेटर आईपीएल के शुरू होने के बाद से लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं, इसके बाद आईसीसी चैम्पियंस ट्रोफी, वेस्ट इंडीज और श्री लंका के दौरे तथा घरेलू मैदान पर ऑस्ट्रेलिया, न्यू जीलैंड और श्री लंका के खिलाफ लगातार तीन घरेलू सीरीज में २३ मैच शामिल रहे.

बीसीसीआई सामान्य रूप से घरेलू सीरीज अक्टूबर से दिसंबर में आयोजित करता हैं और यह ऐसा समय हैं जिसकी उन्होंने आईसीसी से मांग की थी. वैसे मूल रुप से नवंबर-दिसंबर का समय २०२३ तक प्रत्येक वर्ष पाकिस्तान के खिलाफ प्रत्येक वर्ष घरेलू और उसकी सरजमीं पर सीरीज के लिए निर्धारित किया गया था, इसी के अनुरुप प्रसारक और आयोजकों को तय किया गया था. हालांकि मौजूदा परिदृश्य में बीसीसीआई पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेल सकता जिससे दो महीने की विंडो खाली हैं. बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने अपनी पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर बताया की न्यू जीलैंड और श्री लंका के खिलाफ दो सीरीज पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज की जगह करायी गयी और केवल ऑस्ट्रेलिया सीरीज ही भविष्य दौरा कार्यक्रम में शामिल थी क्योंकि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के साथ समझौते पत्र के हिसाब से दोनों देश जब एक-दूसरे का दौरा करेंगे तो टेस्ट और सीमित ओवर की सीरीज अलग दौरे के रूप में मानी जाएंगी| खबर नवभारत टाइम्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here