इसरो

जब भी हमे काम से आराम मिलता हैं और हम छुट्टियाँ मनाने की सोचते हैं तो सबसे ज़रुरी होता हैं की छुट्टी मनाने के लिए हम अच्छी जगहों पर जाएँ जहाँ हम घूमना पसंद करते हैं. देश-विदेश घूमने जाते हैं और वहां के मनोरम दृश्यों का आनंद उठाते हैं, लेकिन अब आप घूमने के लिए चाँद पर जाने की भी तैयारी कर सकते हैं. जल्द ही भारतीय अंतरिक्ष रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन यानि इसरो चाँद पर घर बनाएगा और आप वहां पर जाकर कुछ दिन रुक पाएंगे. आने वाले कुछ सालों में इसरो चांद पर इग्लू बनाने की शुरुआत करेगा. इसके लिए ३डी प्रिंटर और रोबोट को चांद पर भेजा जाएगा. इग्लू बनाने में चाँद की मिट्टी और अन्य पदार्थ का इस्तेमाल होगा.

इसरो सैटेलाइट सेंटर के डायरेक्टर एम. अन्नादुरै ने इग्लू की तुलना अंटार्कटिका में बने भारतीय चौकियों से की है. उन्होंने बताया कि हम चांद पर ठीक उसी तरह के घर बनाने की प्लानिंग कर रहे हैं, जैसा कि अंटार्कटिका में भारतीय चौकियों को बनाया गया हैं. इसे बनाने में जिस मिट्टी का इस्तेमाल किया जाएगा उस मिट्टी के गुण अपोलो मिशन के तहत लाए गए चाँद की मिट्टी से ९९.६% मिलते हैं. वैज्ञानिकों ने चाँद पर घर बनाने के लिए पांच तरह से डिज़ायन तैयार किए हैं. जल्द ही चाँद पर अंटार्कटिका जैसी चौकी बनाने के काम की शुरुआत होने की उम्मीद हैं.

भारत के अलावे अमेरिका समेत कई देश इस होड़ में शामिल हैं और चाँद पर बहुत ज्यादा दिनों तक टिकने वाला घर बनाने की योजना पर काम कर रहे हैं. एम. अन्नादुरै ने कहा कि चाँद पर इग्लू बन जाने के बाद जब अंतरिक्षयात्री पृथ्वी के उपग्रह चाँद पर जाएंगे, तो वहां पर कुछ घंटों से ज्यादा समय बिता पाएंगे. इस घर में वे खुद को सुरक्षित रखकर वहां पर काम कर सकेंगे. उन्होंने कहा कि इसके लिए हमें अच्छे मैटेरियल की जरूरत हैं, जिससे हम वहां पर अच्छा घर बनाने पर अपना ध्यान केंद्रित कर सके. वहां पर घर बनाने के लिए ३डी प्रिंटर और रोबोट को भेजा जाएगा| खबर जी न्यूज़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here