वेंकैया नायडू

आज की रोजमर्रा मे गूगल जैसे खाने से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया हैं किसी भी जानकारी हेतु लोग गूगल की शरण मे चले जाते हैं पर इसके विपरीत भी गूगल कभी गुरू का स्थान नहीं ले सकता ऐसा कह दिया भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने. ओडिशा के भुवनेश्वर में स्थित कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी युनिवर्सिटी के १३वें वार्षिक दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे और ओड़िशा के राज्यपाल एस.सी. जमीर और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि शिक्षा की प्रक्रिया कक्षाओं, खेल मैदानों, घर, इंटरनेट के माध्यम और मीडिया तथा अपने आसपास के लोगों के साथ बातचीत के साथ चलती रहती हैं. उन्होंने कहा कि सभी औपचारिक और अनौपचारिक तौर-तरीके हमें शिक्षित करने में अपना योगदान देते हैं. नायडू ने कहा कि आज के ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के दौर में नए कौशल और नवीन ज्ञान को प्राप्त करना बेहद महत्तवपूर्ण हैं.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि अपनी क्षमताओं और ज्ञान में वृद्धि तथा तेजी से बदल रहे कामकाज के तौर-तरीकों के हिसाब से स्वयं को ढालना बेहद जरूरी हो गया हैं और उन्होंने छात्रों को कुछ नए और अलग तरह से सोचने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि आज पहले की तुलना में सूचना और ज्ञान के ज्यादा संसाधन मौजूद हैं, छात्रों को इनका सटीक इस्तेमाल करना चाहिए और अपने-अपने क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ बनने का प्रयास करना चाहिए|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here