फेसबुक

कुछ दिन पहले ही युवाओं की पसंदीदा सोशल मीडिया फेसबुक के जरिए चोरी हुए यूजर्स डाटा की बात सामने आने के बाद भारतीय चुनाव आयोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ अपने संबंधों की समीक्षा करेगा. फेसबुक के मालिक और संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने कैंब्रिज एनालिटिका मामले में फेसबुक यूजर्स से माफी मांगी हैं. सूत्रों का कहना हैं कि चुनाव आयोग ने एक विशेषज्ञ पैनल बनाया हैं जो दो दिन में अपनी डिटेल रिपोर्ट देगा.

इस पैनल में एक सोशल मीडिया और एक कानूनी क्षेत्र के एक्सपर्ट हैं. रिपोर्ट मिलने के बाद आयोग इसपर चर्चा करेगा. मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि एक हफ्ते के अंदर फेसबुक के साथ साझेदारी करके युवाओं को मतदान के लिए प्रोत्साहित करने पर अब आयोग की बैठक होगी. उन्होंने कहा कि आयोग डाटा लीक को लेकर चिंता में हैं जिसके जरिए साइकोलॉजिकल प्रोफाइल बनाकर मतदाताओं को प्रभावित किया जाता हैं.

१७ मार्च को इस बात का खुलासा हुआ था कि राजनीतिक कंसल्टेंसी कैंब्रिज एनालिटिका ने ५ करोड़ फेसबुक यूजर की जानकारी और सहमति के बिना निजी जानकारी को खंगाला था. इस खबर के सामने आने के बाद फेसबुक को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं क्योंकि यह पता चल गया हैं कि बड़ी ही आसानी से यूजर्स की निजी जानकारी निकाली जा सकती हैं.

इस डाटा का कथित तौर पर एक पर्सनैलिटी क्विज के जरिए हासिल किया गया. जिसमें ३,२०,००० फेसबुक यूजर्स जिन्होंने इसमें हिस्सा लिया उन्होंने अनजाने में ना केवल अपनी प्रोफाइल का बल्कि १६० दोस्तों की प्रोफाइल का भी एक्सेस दे दिया. इस मामले पर जुकरबर्ग ने माफी मांगी हैं उनका कहना हैं कि यूजर्स का डाटा सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी हमारी हैं.

अगर हम ऐसा नहीं कर पाते हैं तो हमें आपके लिए काम करने का कोई हक नहीं हैं. यह विश्वास में सेंध लगाने जैसा हैं. हम यह भी सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि भविष्य में ऐसा न हो. उन्होंने कहा कि कैंब्रिज एनालिटिका ने एक ऐप के जरिए यूजर्स के डाटा का चोरी किया था जिसका निर्माण एक शोधकर्ता ने किया था| खबर अमर उजाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here