विधायकों

जब से सरकार ने झारखंड में शराब के ठेकों को बंद कर खुद से शराब बेचने का फैसला लिया हैं, तब से शराब की चाहत रखने वालों की तकलीफ बढ़ गई हैं. दरअसल सरकार ने जो दुकानें खोली हैं, वो कम हैं. इसकी वजह से ठंड के मौसम में शराब लेने के लिए लोगों को लंबी-लंबी लाइनों में लगना पड़ रहा हैं. ऐसे में झारखंड के कुछ माननीयों की भी तकलीफ में इजाफा हो गया हैं. क्योंकि उन्हें लाइन में लगना अच्छा नहीं लगता. ऐसे में विधायकों को लगता हैं कि विधानसभा परिसर में ही अगर एक शराब की दुकान खुल जाए तो उन्हें लाइन में लगने की झंझट से छुटकारा मिल जाएगा.

विधायकों ने फैसला किया हैं कि आगामी शीतकालीन सत्र में विधानसभा अध्यक्ष के सामने यह मांग रखी जाएगी. गौरतलब हैं कि विधानसभा का शीतकालीन सत्र १२ दिसंबर से शुरू होगा. जिसमें विधायक अपनी इस मांग से विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव समेत सरकार के मुखिया रघुवर दास को अवगत कराएंगे. माननीयों का कहना हैं कि आखिरकार विधायक कैसे भीड़भाड़ भरी शराब दुकानों में जाएंगे. उनका कहना हैं कि जब सरकार को ही शराब बेचनी हैं तो इस मांग को पूरा करने में परेशानी क्या हैं. झारखंड मुक्ति मोर्चा विधायक दल के सचेतक कुणाल षाडंगी ने भी इस राय का समर्थन किया.

वहीं नेता विपक्ष हेमंत सोरेन का कहना हैं कि विधायकों ने उनके सामने परेशानी उठाई हैं. वे चाहते हैं कि यह मामला विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान उठाया जाए. जब से सरकार ने शराब बचने का काम अपने हाथों में लिया हैं, तभी से शहर में शराब दुकानों की संख्या में काफी कमी आई हैं. दरअसल सरकार सूबे में शराब की बिक्री पर नियंत्रण करना चाहती हैं. इसके तहत उसने जहां दुकानों की संख्या घटाई हैं वहीं शराब बेचने के समय को भी घटाया हैं. इसके तहत अब रात दस बजे के बाद शराब नहीं बेची जा सकती| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here