करणी सेनाविवादों के बिच २५ जनवरी को रिलीज हुई फिल्म ‘पद्मावत’ बॉक्स ऑफिस पर तगड़ी कमाई कर रही हैं और लगातार हो रहे विरोध प्रदर्शनों के बीच फिल्म को लोगों का बहुत प्यार मिल रहा हैं. फिल्म रिलीज होने से पहले से इसका विरोध कर रहे करणी सेना ने ऐलान किया हैं कि वो अब इस फिल्म का विरोध नहीं करेंगे. राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना महाराष्ट्र के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष योगेंद्र सिंह कटार ने चिट्ठी लिख कहा कि उन्होंने २ फरवरी को फ़िल्म पद्मावत देखी हैं, जिसमें राजपूतों की वीरता और त्याग का बहुत सुंदर चित्रण किया गया हैं. यह फिल्म रानी पद्मावती की महानता को समर्पित हैं. इस फिल्म में रानी पद्मावती और अलाउद्दीन के बीच कोई भी सीन नहीं हैं. इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं हैं जो राजपूत समाज के इतिहास और भावनाओं को नुकसान पहुंचाए.

हम इस फिल्म से् पूर्णता संतुष्ट हैं. इसलिए हम हमारा आंदोलन/विरोध बिना शर्त वापस लेते हैं. और आपको आश्वासन देते हैं कि हम इस फिल्म को राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और भारत के सभी सिनेमा घरों में प्रदर्शित करने में आपका और फिल्म वितरकों का सहयोग करेंगे. बता दें कि फिल्म ने अपनी रिलीज के चंद दिनों में ही १५० करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया हैं. फिल्म को भारी मात्रा में दर्शक मिल रहे हैं. हालांकि गुजरात, राजस्थान, हरियाणा समेत ऐसे कई राज्य हैं जिनके कुछ सिनेमाघरों में विरोध प्रदर्शन और लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर फिल्म को ना रिलीज करने का फैसला लिया हैं| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here