Home साहित्य एव कथाएँ

साहित्य एव कथाएँ

दिवाली के पीछे की यह वजह तो प्रख्यात हैं की जब १४ वर्षों का वनवास काट कर राजा राम, लंका नरेश रावण का वध कर, वापस अयोध्या आयें थे तो उन्हीं के वापस आने की खुशी में अयोध्या वासियों ने अयोध्या को दीयों से सजाया था और अपने भगवान के आने की खुशी में अयोध्या नगरी दीयों की रोशनी...
आज शरद पूर्णिमा के नाम से प्रचलित कार्तिक पूर्णिमा हैं और आज के रात की ऐसी मान्यता हैं कि अमृत की बूंदें कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पे धरती पर न्योछावर होती हैं. परंतु हिन्दू धर्म के अनुसार मान्यता का आधार क्या हैं यह हम आपको बताते हैं. द्वापर युग में हुए महाभारत युद्ध के साक्षी बर्बरीक एक महान योद्धा...
ये संभव नहीं की राखी का त्यौहार हो और रानी कर्णावती का जिक्र ना हो, राणा सांगा की पत्नी कर्णावती एक राजपूत रानी थी, जिन्‍होंने जौहर में जान दे दी, पर घुटने नहीं टेके दरअसल, चित्तौड़ के शासक महाराणा विक्रमादित्य को कमजोर समझकर गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह ने राज्‍य पर आक्रमण कर दिया था. इस मुसीबत से निपटने के लिए कर्णावती...
'फ्रेंडशिप डे' दुनिया में सबसे अहम माना जाने वाला ये दोस्ती का रिश्ता और ये मित्रता दिवस का दिन, एक सच्चे दोस्त के बिना अधूरा हैं. हर साल अगस्त महीने के पहले रविवार को दुनिया भर में फ्रेंडशिप डे मनाया जाता हैं. इस दिन दोस्त अपनी दोस्ती का इज़हार करते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं मित्रता दिवस की शुरुआत कब से हुई...
लिखित कविता शिवांगी शुक्ला की कलम से   सावन में बारिश होना और भोलेनाथ के दर्शन का जितना महत्व हैं उतना ही सावन में नीम या आम के पेड की छाव के निचे झूले का भी, झूला प्रेम व खुलेपन का प्रतिक हैं श्री कृष्ण भी अपनी बांसुरी की धुन में खो जाते और गोपिया उन्हें झूला झुलाती रहती, पुरातन...
अभिषेक शर्मा की कलम से  सावन कहा जाता हैं की इस पावन महीने में भोलेनाथ के दर्शन व जलाभिषेक करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती हैं और आज से सुरु हो चूका भोलेनाथ, अवघडदानी को सम्पर्पित पावन माह सावन. जब सभी देव शयन को चले जाते तो बमभोला शिव सारनाथ स्थित अपने साले सारंगनाथ के यहां सावन का आनन्द लेने चल देते भोले के...
तैयब हसन ताज की कलम से धरती पे लड़ी तूने अजब ढंग की लड़ाई, दागी न कहीं तोप, न बंदूक चलायी यह कहानी चंपारण की १९ लाख प्रजा के दुख-दर्द की हैं जिनकी पीढ़ियां ब्रिटिश नील प्लांटरों की तिजोरियां भरने में तबाह होकर रह गयी थीं जिनके घरों में अनाज का एक दाना भी नहीं होता, फिर भी वे अपने खेतों में...
'माही’ सिर्फ एक नाम नहीं इसके पीछे की घटनाओं को रेखांकित कर एक किताब माही... एक अधूरी जिंदगी  में तब्दील कर दिया हैं दिल्ली की रहने वाली नंदनी अग्रवाल ने और महावीर पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित ये किताब जिसमे नंदनी जी की कल्पनाएँ जो एक कथा में रूपांतरित हैं उन कल्पनाओं का संछिप्त अंश, यह कहानी दिल्ली की एक छात्र 'माही’...
अभिषेक शर्मा की किताब इंडियन फ्रेम में ई दुनिया आज की इस सोशल दुनिया को बखूबी बया कर रहा हैं ब्लैक टेरापिन प्रकाशन द्वारा प्रकाशित अभिषेक शर्मा की रुचि किताब इंडियन फ्रेम में ई दुनिया यू तो आज के समय में अधिकांश लोग सोशल साइट्स से जुड़े हुए हैं और ये सोशल एक्टिविटीज़ उनकी जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुकी हैं पर क्या...