बुलेट ट्रेन

इन दिनों बुलेट ट्रेन को लेकर जहां एक तरफ भूमि अधिग्रहण का काम तेजी से किया जा रहा हैं. वहीं दूसरी तरफ इसके लिए रेलवे के कर्मचारी और अधिकारियों को जापान में ट्रेनिंग के लिए लगातार भेजा जा रहा हैं और अहमदाबाद मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन को लेकर मोदी सरकार की तैयारियां भी काफी तेज गति से आगे बढ़ रही हैं. इन सबके बीच नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन ने अहमदाबाद और मुंबई के बीच २०२३ में चलने जा रही बुलेट ट्रेन के तमाम तकनीकी और यात्री सुविधा से संबंधित चीजों को तय कर लिया हैं.

समाचार समूह आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक मुंबई और अहमदाबाद के बीच १० डिब्बों की बुलेट ट्रेन चलाई जाएगी. इसमें ७५० लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी और इसकी अधिकतम रफ्तार ३२० किलोमीटर प्रति घंटे की होगी. यह बुलेट ट्रेन जापान में चल रही अत्याधुनिक बुलेट ट्रेन सीरीज ई५ की तरह होगी. आजतक से खास बातचीत में नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर अचल खरे ने बताया कि मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलाई जाने वाली बुलेट ट्रेन अत्याधुनिक होगी.

इसमें पैसेंजर कंफर्ट का खासा ध्यान रखा गया हैं. उन्होंने बताया कि सभी डिब्बों में इन डायरेक्ट लाइटिंग होगी. सभी सीटों में एडजस्टेबल हेड रेस्ट लगे होंगे. हर एक सीट पर आर्म रेस्ट होगी. सभी के लिए रीडिंग लैंप का इंतजाम किया गया हैं. हर एक सीट में आरामदायक लेग रेस्ट होगा. सीटों को इस तरह से डिजाइन किया जाएगा, जिसमें लोगों को बैठने में काफी आराम रहे. मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलने जा रही बुलेट ट्रेन में तीन तरह के टॉयलेट होंगे.

ट्रेन के अंदर पहली तरह के टॉयलेट ऐसे होंगे, जिनको पुरुष और महिला दोनों ही इस्तेमाल कर सकेंगे. दूसरे तरह के टॉयलेट वह होंगे जिनको सिर्फ और सिर्फ महिलाओं के लिए डिज़ाइन किया गया हैं. तीसरी तरह के टॉयलेट वे होंगे, जिनको दिव्यांग इस्तेमाल कर सकेंगे. दिव्यांगों की दिक्कत को देखते हुए बुलेट ट्रेन के अंदर ऐसे टॉयलेट होंगे, जिनमें व्हीलचेयर जा सकेगी. इन सभी टॉयलेट्स में फाइव स्टार फैसिलिटीज होंगी.

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के मैनेजिंग डायरेक्टर अचल खरे ने बताया की पैसेंजर कंफर्ट का खास ध्यान रखते हुए हर एक जगह वॉइस कम्युनिकेशन सिस्टम दिया जा रहा हैं. इसके अलावा डिब्बों में इमरजेंसी कॉल इक्विपमेंट भी रहेंगे. बुलेट ट्रेन चलाने वाले कर्मचारियों के लिए वायरलेस फोन दिए जाएंगे. हर एक डिब्बे में पैसेंजर इंफॉर्मेशन डिस्प्ले भी रहेगा. इसमें इंग्लिश हिंदी गुजराती और मराठी में ट्रेन का नंबर और नाम लिखा रहेगा. हर एक डिस्प्ले में मौजूदा स्टेशन और अगला आने वाला स्टेशन लगातार प्रदर्शित होता रहेगा.

इसके अलावा यात्रियों के लिए जरूरी तमाम सूचनाओं को इस डिस्प्ले पर प्रदर्शित किया जाएगा. इस डिस्प्ले पर ट्रेन की स्पीड को भी लगातार दिखाया जाएगा. अचल खरे ने बताया की बुलेट ट्रेन के डिब्बों में इन डायरेक्ट लेड लाइटिंग रहेगी. इससे लोगों की आंखों पर जोर नहीं पड़ेगा. उन्होंने बताया कि बुलेट ट्रेन में दो तरह के डिब्बे होंगे एक फर्स्ट क्लास और दूसरा एग्जिक्यूटिव क्लास.

फर्स्ट क्लास डिब्बे के अंदर बिजनेस क्लास की तरह की व्यवस्था होगी और इसमें दो दो सीटों की कतारें होंगी. एग्जीक्यूटिव क्लास में दो और ३ सीटों की कतारें होंगी. उन्होंने बताया कि दिव्यांग लोगों की दिक्कतों को ध्यान रखते हुए बुलेट ट्रेन में उनके लिए ऐसी व्यवस्था होगी कि जिससे वह व्हीलचेयर समेत अंदर आ सके और अपनी सीट के पास अपनी व्हीलचेयर को बांधकर रख सकें| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here