बसपा

इन दिनों चुनावी सरगर्मी उफान पर हैं और उत्तर प्रदेश में होने वाले उप-चुनावों से पहले एक बड़ा राजनैतिक उलटफ़ेर होता दिख रहा हैं. ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में मायावती अपनी धूर विरोधी समाजवादी पार्टी को समर्थन दे सकती हैं. अब तक इसका कोई औपचारिक ऐलान नहीं हुआ हैं, लेकिन ख़बर हैं कि शनिवार को मायावती के घर एक बैठक हुई हैं जिसमें समर्थन पर चर्चा हुई हैं. खबरों के मुताबिक रविवार कोमायावती-अखिलेश यादव को समर्थन देने का ऐलान कर सकती हैं.

इसके पहले सूबे में हुए लोकसभा चुनाव में बसपा खाता नहीं खोल पाई थी. वहीं विधानसभा चुनावों में उसकी करारी हार हुई थी, जबकि समाजवादी पार्टी की भी दोनों चुनावों में शर्मनाक हार हुई थी. इस नए समीकरण को आने वाले लोकसभा चुनावों में बीजेपी के खिलाफ एक महागठबंधन को तौर पर देखा जा रहा हैं. गोरखपुर और फूलपुर में ११ मार्च को मतदान होना हैं, जबकि नतीजे १४ मार्च को आएंगे. गौरतलब हैं कि पिछले विधानसभा चुनाव में सपा को २८ प्रतिशत और बहुजन समाजवादी पार्टी को २२ प्रतिशत वोट मिले थे.

दोनों को जोड़ ले तो ये ५० प्रतिशत वोट हो जाता हैं ऐसी स्थिति में बीजेपी के लिए उपचुनाव में सपा के प्रत्याशियों को हराना बेहद मुश्किल हो जाएगा. गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटें योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद खाली हुई हैं. दोनों नेता लोकसभा से इस्तीफा देकर उत्तर प्रदेश विधानसभा के सदस्य बन चुके हैं| खबर एनडीटीवी इंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here