सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय की नीलाम होने वाली एंबी वैली के खूबसूरती और उसके मनमोहक दृश्य तो देखिये क्या कुछ नहीं हैं एंबी वैली सिटी में. [metaslider id=2538]

उच्चतम न्यायालय ने सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें उन्होंने ९६६ करोड़ रुपये जमा कराने के लिए और दो महीने की मोहलत की अपील की गई थी और सहारा प्रमुख ने न्यायालय से १,५०० करोड़ रुपये की राशि में से शेष बची ९६६ करोड़ रुपये की राशि को जमा कराने के लिए ११ नवंबर तक का समय देने की अपील की थी परंतु न्यायलय ने उसे खारिज किया और लंबे समय से मुश्किलों का सामना कर रहे सहारा ग्रुप के प्रीमियम प्रॉजेक्ट एंबी वैली को खरीदने में केवल दो बिडर्स ने दिलचस्पी दिखाई हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने एंबी वैली को नीलाम करने का आदेश दिया हैं और इसका रिजर्व प्राइस 37,392 करोड़ रुपये रखा गया हैं. संभावित बिडर्स के नाम का खुलासा नहीं हुआ हैं क्योंकि नीलामी की प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट की कड़ी निगरानी में की जा रही हैं. सूत्रों ने बताया कि केवल दो बिडर्स ने अभी तक नीलामी में दिलचस्पी ली हैं और इसके लिए अपने केवाईसी विवरण जमा किए हैं. रियल एस्टेट कंसल्टेंट्स का कहना हैं कि देश की किसी भी रियल्टी कंपनी के लिए इतनी बड़ी प्रॉपर्टी खरीदना लगभग असंभव होगा क्योंकि यह सेक्टर नकदी की भारी कमी से जूझ रहा हैं और बैंक भी इसे लोन देने से हिचकिचाते हैं. महाराष्ट्र के पुणे जिले में लोनावाला के निकट 6,761.6 एकड़ में फैली एंबी सिटी के संभावित बायर चीन या जापान से हो सकते हैं. हालांकि, बड़ी मात्रा में नकदी रखने वाले देश के कुछ इंडस्ट्रियलिस्ट भी इसे खरीदने की क्षमता रखते हैं लेकिन वे अभी तक एक बिजनस के तौर पर रियल एस्टेट से दूर रहे हैं. एंबी वैली में मॉडर्न विला, गोल्फ कोर्स, हॉस्पिटल, स्कूल और एयरपोर्ट के साथ ही बहुत सी अन्य सुविधाएं मौजूद हैं| खबर इकनॉमिक टाइम्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here