प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए पं. अजय त्रिपाठी

आज लखनऊ स्थित यूपी प्रेस क्लब में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए हिन्दू समाज पार्टी व युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष पं. अजय त्रिपाठी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मेट्रो का विस्तार जोरों से हो रहा हैं पर जिनकी बदौलत हम सभी इस विकास को गति दे पा रहे हैं उनको भी विकास की स्मृतियों में संजोना हम सभी का परम दायित्व हैं हिन्दू समाज पार्टी जो देशहित में संघर्षों के लिए जानी जाती हैं

पार्टी की यह मांग हैं कि करगिल के शहीद और शहर-ए-लखनऊ की आन-बान और शान शहीद मनोज पाण्डेय के नाम पर भी किसी एक मेट्रो स्टेशन का नामकरण किया जाये और नामकरण के साथ ही उस स्टेशन पर शहीद मनोज पाण्डेय की स्मृतियों को संजोते हुए करगिल में उनके और साथियों के बलिदान की तस्वीरें भी हों, ताकि लखनऊ के लोग न सिर्फ शहीद मनोज पाण्डेय के जीवन से प्रेरित हो बल्कि देशभक्ति और गर्व का जजबा भी लोगों में उमड़े, जब वो इस स्टेशन पर आयें तो

इसके साथ ही हिन्दू समाज पार्टी ने यह भी मांग रखी कि परमवीर चक्र विजेता अमर शहीद मनोज पाण्डेय की जीवनी को नौनिहालों के पाठ्यक्रम में सम्मिलित किया जाये जिससे कि उनमें राष्ट्रवाद की भावना का संचार हो सके और कार्यक्रम में उपस्थित शहीद कैप्टन मनोज पाण्डेय के पिता गोपीचन्द पाण्डेय ने बताया कि मनोज की हसरत गोरखा राइफल्स में जाने की थी और उन्हें किस्मत से वहीं पोस्टिंग मिली मनोज जब सेना के साक्षात्कार के लिए गये थे तो अधिकारियों ने उनसे सेना में आना की वजह पूछी तो सभी अधिकारियों को चकित कर देने वाले उनके जवाब में मनोज पाण्डेय ने कहा था कि उन्हें परमवीर चक्र विजेता बनना हैं

राजेश मणि त्रिपाठी जी ने कहा कि हमारे देश में अभी तक २१६ जवान शहीद हो चुके हैं लेकिन किसी एक भी नेता को शहीदों के मारे जाने पर कोई दुख नहीं वो सिर्फ अपनी राजनीति करने में मशगूल रहते हैं पार्टी ने देश के प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, रेल मंत्री के साथ आम जनता से अपील की हैं कि शहीद मनोज पाण्डेय की स्मृतियां मेट्रो स्टेशन के रूप में संरक्षित की जायें और इनकी जीवनी को पाठ्क्रयम में सम्मिलित किया जाये और इसके साथ ही ये भी कहा की अब समय हैं कि हम शहीदों के नाम पर विकास कार्यों को समर्पित करें प्रेस कांफ्रेंस में युवाओं के प्रेरणा स्रोत मोहित मिश्रा, रवि राजपूत, राजू शुक्ला, निर्भय व अन्य गणमान्य उपस्थित रहे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here