विराट कोहली को भारतीय टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी जब से मिली उन्होंने अपनी भूमिका को बखूबी निभाया. उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को लगातार छह टेस्ट सीरीज में जीत दिलाई, टेस्ट में नंबर एक टीम बनाया और 19 टेस्ट मैचों तक टीम इंडिया विजेता रही. टेस्ट टीम की कप्तानी संभालने के बाद विराट कोहली का क्रिकेट के इस फॉर्मेट में प्रदर्शन भी लाजवाब रहा. ये सफलता का दौर पूरी तरह से कोहली का था.पर पुणे टेस्ट मैच में स्टीव स्मिथ की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारत को हरा दिया और विराट कोहली की कप्तानी में भारत की यह अब तक की सबसे बड़ी हार हुई आने वाले समय में विराट भले ही भारत के सफल टेस्ट कप्तान बन जाएं लेकिन वो बतौर कप्तान धोनी के इस रिकॉर्ड की बराबरी कभी नहीं कर पाएंगे. पुणे में हार के बाद उनके हाथ से यह मौका निकल गया. वैसे महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होम सीरीज में कभी हार का सामना नहीं करना पड़ा. भारत ने उनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होमग्राउंड पर खेले गए 8 टेस्ट मैचों में जीत दर्ज की और एक भी मैच नहीं हारा.और साल २०१२ – १३ में भारत दौरे पर आई ऑस्ट्रेलियाई टीम को टेस्ट सीरीज में 4-0 से हार का सामना करना पड़ा था. इसी सीरीज में धोनी ने टेस्ट मैचों में अपना इकलौता दोहरा शतक जड़ा. ऑस्ट्रेलिया के साथ जारी टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में हार के साथ ही विराट कोहली अब धोनी के इस रिकॉर्ड को कभी नहीं तोड़ पाएंगे.खबर न्यूज़१८

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here