दिवालीयू तो हम सभी प्रत्येक वर्ष दिवाली के आने का इंतजार बड़े उमंग के साथ करते हैं पर ज्यो ये त्योहार नज़दीक आता हैं

तो हम कई दिन पहले ही इसके सेलिब्रेशन से जुड़ी तैयारियां शुरू कर देते हैं. नए कपड़ों से लेकर घर सजाने के आइटम तक हम इकट्ठा करना शुरू कर देते हैं. दीयों के साथ पटाखे जला कर भी इस त्योहार को मनाया जाता हैं. लेकिन हमारी खरीदी गई चीजें पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचाती हैं. इस पर लोगों में जागरुकता बढ़ रही हैं और लोग अब ईको-फ्रेंडली दिवाली भी मानने लगे हैं. तो यदि आप भी इस बार पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए दिवाली के पर्व को मनाना चाहते हैं तो ये टिप्स अपना सकते हैं.

दिवाली में सजावट करने के लिए प्लास्टिक के सामान ना ख़रीदे क्योंकि उनका काम खत्म हो जाए तो हमारे ही द्वारा वो सड़क पर फेंक दिए जाते हैं. सड़कों की सजावट के लिए भी प्लास्टिक की चीजों का इस्तेमाल होता हैं, जो बाद में कचरे के रूप में चारों ओर बिखरे मिलते हैं. इससे छुटकारा पाने के लिए या तो इन्हें डंप कर दिया जाता हैं या फिर जला दिया जाता. ये दोनों ही तरीके हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुँचाते हैं. लेकिन अगर हम प्लास्टिक की ऐसी सजावटी चीजें खरीदे ही न तो इस नुकसान से बचा जा सकता हैं और पटाखों के कारण भी हमारे पर्यावरण को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचता हैं इसकी कारण इस बार दिल्ली में पटाखों पर बैन हैं क्योंकि चाहे वो धुंआ हो या फिर पटाखों से होने वाला शोर ये पर्यावरण के साथ हमें भी काफी नुकसान पहुँचाता हैं. वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण हमारे शरीर को नुकसान पहुँचाते हैं. इससे बचने के लिए इस दिवाली पटाखों से तौबा कर लें. इसकी जगह दिये और मोमबत्ती जलाएं जो रोशनी देंगी लेकिन पर्यावरण या आपको किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाएंगी. वैसे यदि आप पटाखे जलाना ही चाहते हैं तो बाजार में अब ईको फ्रेंडली पटाखे भी बिक रहे हैं. इन पटाखों में धुंआ और शोर दोनों ही कम हैं. ईको-फ्रेंडली गिफ्ट उपहार देते समय भी आप पर्यावरण का ध्यान रख सकते हैं. इसके लिए आप ऐसे उपहार खरीदें तो ईको-फ्रेंडली हों. मिट्टी से बने शो-पीस या कागज़ से बनी चीजें आजकल ट्रेंड में तो हैं ही साथ ही में ये किसी भी तरह से पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाते| खबर जी न्यूज़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here