डाकघर जहा भारत एक तरफ डिजिटल हो रहा हैं वही अब देश के करीब ३४ करोड़ डाकघर बचत खाताधारक बहुत जल्द डाकघरों में भी डिजिटल बैंकिंग की पूरी सुविधा का लाभ उठा सकेंगे. सरकार ने ऐसे खाताधारकों के खातों को इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जोड़ने की इजाजत दे दी हैं.

वित्त मंत्रलय ने डाकघर के बचत खातों को आइपीपीबी से जोड़ने का अनुमोदन

एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि वित्त मंत्रलय ने डाकघरों के बचत खातों को आइपीपीबी से जोड़ने का अनुमोदन कर दिया हैं इससे डाकघर बचत खाताधारकों को किसी भी बैंक के किसी भी अकाउंट में रकम हस्तांतरित करने की सुविधा मिल जाएगी. सूत्र के मुताबिक इस वर्ष मई से पहले चरण और सितंबर से दूसरे चरण में ऐसे खाताधारकों को आइपीपीबी से जोड़ने की प्रक्रिया शुरू होगी.

वित्त मंत्रलय के इस फैसले से देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क तैयार होने का रास्ता साफ हो गया हैं. इसकी वजह यह हैं कि इंडिया पोस्ट ने देशभर के सभी १.५५ लाख डाकघरों को आइपीपीबी से जोड़ने की योजना बनाई हैं. डाकघर  के इन ३४ करोड़ खातों में १७ करोड़ पोस्ट ऑफिस सेविंग्स बैंक अकाउंट हैं, जबकि बाकी मासिक आय योजना व आवर्ती जमा खाते व अन्य हैं| खबर दैनिक जागरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here