आरएसएस राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस से सीखने की नसीहत दी

अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस से सीखने की नसीहत दी हैं. राहुल गांधी का यह बयान रविवार को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के दौरान सामने आया हैं. इस बीच राहुल गांधी ने आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए रणनीति बनाने पर भी जोर दिया.

उन्होंने कहा कि सभी विपक्षी दल मिलकर लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराएंगे, लेकिन इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने भाषण में बीजेपी और आरएसएस की कार्यप्रणाली की बात कर पार्टी के नेताओं को इनसे सीखने की नसीहत भी दे डाली. दिलचस्प बात यह हैं कि सीडब्ल्यूसी की बैठक में दिए गए राहुल के करीब १७ मिनट के भाषण को पार्टी की तरफ से यूट्यूब पर अपलोड किया गया,

लेकिन कुछ मिनटों में ही हटा लिया गया. इसके बाद से सवाल उठ रहे हैं कि पार्टी ने राहुल का भाषण यूट्यूब से क्यों हटा लिया? आखिर राहुल गांधी ने अपने भाषण में क्या कह दिया, जो वीडियो को यूट्यूब से हटाना पड़ा? बहरहाल, हम आपको बताते हैं कि राहुल ने सीडब्ल्यूसी की बैठक में बीजेपी-आरएसएस को लेकर क्या कहा? सूत्रों के मुताबिक राहुल ने सीडब्ल्यूसी की बैठक में आए २०० से ज्यादा पार्टी नेताओं से कहा कि हम कठिन मोर्चे पर काम करने से कतराते हैं.

बीजेपी और आरएसएस के लोग आदिवासियों के बीच गए

राहुल ने आदिवासी समुदाय का उदाहरण देते हुए कहा कि दशक भर पहले तक यह समुदाय कांग्रेस का वोटर था, लेकिन बीजेपी और आरएसएस के लोग आदिवासियों के बीच गए, उनके साथ काम किया, उन्हें समझाया और आज वो बीजेपी को वोट देते हैं. दरअसल, इस उदाहरण के जरिए राहुल का उद्देश्य बीजेपी व आरएसएस द्वारा किए जाने वाले परिश्रम को उजागर करना था

और कांग्रेस नेताओं को बताना था कि वो भी इसी तरह कठिन परिश्रम करने से न हिचकिचाएं. राहुल गांधी ने कहा कि अगर कांग्रेस के लोग महज आदिवासियों के बीच चले भर जाएं, तो दुबारा से ये समुदाय कांग्रेस की तरफ लौट सकता हैं| खबर आजतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here