कर्नाटक को इस भ्रष्टाचार की व्यवस्था से आजादी चाहिए : मोदी

कर्नाटक

आज कर्नाटक के दावणगेरे में किसानों की रैली को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया संबोधित. ये रैली बीजेपी की राज्य इकाई के द्वारा प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस. येदियुरप्पा के जन्मदिन के मौके पर आयोजित की गई हैं. मंगलवार को ही येदियुरप्पा का ७५वां जन्मदिन हैं. राज्य चुनाव प्रचार के दौरान यह तीसरा अवसर हैं जब पीएम मोदी राज्य का दौरा कर रहे हैं. कर्नाटक में पीएम नरेंद्र मोदी ने कन्‍नड़ में अपने भाषण की शुरुआत की. पीएम मोदी ने कहा कि जब मैं गुजरात में सीएम था तो सरदार पटेल का स्‍टैचू बनाने का संकल्‍प किया. पटेल किसानों के लिए सबसे ज्यादा आंदोलन करने वाले नेता थे. पटेल की स्‍टैचू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई स्‍टैचू ऑफ लिबर्टी से भी दोगुनी हैं. मोदी ने रैली की शुरुआत येदियुरप्पा को बधाई देकर की. मोदी ने इस दौरान एक अभियान की जानकारी भी दी. मोदी ने कहा कि येदियुरप्पा के जन्मदिन के मौके पर शुरू किए गए अभियान में दिया गया मुट्ठीभर चावल एक नया कर्नाटक की रचना करेगा.

सभी किसान इस अभियान में सहयोग करें, जल्‍द बदलाव आएगा. मोदी ने कहा कि इस कर्नाटक की सरकार का जाना तय. यह अपने पापों के भार से इस स्‍थ‍िति में पहुंची. मोदी ने कहा कि यह राज्‍य सरकार कांग्रेस को भी बचा नहीं पाएगी. पीएम नरेन्द्र मोदी ने रैली में कहा कि देश की जनता को जब भी मौका मिला हैं कांग्रेस को निकाला हैं, देश की जनता को भी पता चल गया हैं कि देश की समस्याओं का कारण कांग्रेस कल्चर हैं. मोदी ने कहा कि हमारी हर योजना के केंद्र में किसानों का कल्याण और कृषि विकास हैं. मोदी ने कहा कि कुछ लोगों का मत हैं कि कर्नाटक में सिद्धारमैया की सरकार चल रही हैं तो ज्‍यादातर लोगों का मानना हैं कि यहां सीधा रुपया की सरकार चल रही हैं. मोदी ने कहा कि यहां हर काम कराने के लिए सीधा रुपया जरूरी हो गया हैं.

मोदी ने कहा कि कर्नाटक को इस भ्रष्‍टाचार की व्‍यवस्‍था से आजादी चाहिए. मोदी ने कहा कि यहां जब तक १० प्रतिशत का मामला नहीं होता तब तक काम नहीं बनता हैं. वहीं राज्‍य सरकार को भारत सरकार ने खाद्यान्न खरीदने के लिए पैसे दिए. वहीं उस पैसे में से ५०-५५ करोड़ रूपए अभी भी वैसे ही सरकारी खज़ाने में बिना खर्च किए बचे हुए हैं. संवेदनशील सरकार होती तो ऐसा नहीं होता. मोदी ने कहा कि यहां स्‍वास्‍थ्‍य के क्षेत्र में भी राज्‍य सरकार ने केंद्र द्वारा दिए गए ५०० करोड़ रुपया खर्च नहीं किया. गुजरात में एक नर्मदा नदी और ताप्ती नदी थी और बाकी जगह सूखा था. लेकिन हमारी सरकार ने सभी जगहों पर पानी पहुंचाने का काम किया| खबर आजतक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *