तीन तलाक मामले पर लड़कियों को मिल सकता हैं ‘ना’ कहने का अधिकार

तीन तलाकआज ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के मामले पर नया हलफनामा दाखिल करते हुए बोर्ड ने कोर्ट से अपील की हैं कि काजियों को इस संबंध में एडवायजरी जारी की जाए कि वह निकाह के वक्त दुल्हों को तीन तलाक का रास्ता नहीं अपनाने की सलाह दें इसके साथ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने न्यायालय में दाखिल अपने हलफनामे में ये भी साफ़ किया कि तीन तलाक शरीयत के तहत अवांछनीय परंपरा हैं

और निकाहनामे में इसकी अनुमति देने का कोई प्रावधान नहीं होना चाहिए हलफनामे में इस बात का भी जिक्र किया गया की निकाहनामे में लड़की के कहने पर ये शर्त शामिल करवाने का ऑप्शन हो कि उसे तीन तलाक दिया जा सकता हैं या नहीं

लोगों को जागरूक करने के लिए बोर्ड सोशल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया के माध्यम से लोगो को तीन तलाक के बारे में बताया जाएगा और शायद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के इस प्रयास से लड़कियों को मिल जाएँ तीन तलाक मामले पर ‘ना’ कहने का अधिकार | खबर आजतक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *