सिर्फ मुस्लिमों की ही दाढ़ी क्यों कटवाते हैं डॉक्टर : सपा नेता

सपा
सपा के प्रमुख नेता शेख ने निकाय आयुक्त को लिखा पत्र

रईस शेख जो समाजवादी पार्टी के नेता हैं उन्होंने दावा किया कि मुंबई के सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर मुस्लिम मरीजों से सर्जरी से पहले दाढ़ी कटवाकर आने को कहते हैं. शेख ने इसे बंद करने को कहा हैं. बीएमसी में सपा के प्रमुख नेता शेख ने निकाय आयुक्त अजय मेहता को पत्र लिखकर उनका ध्यान इस ओर खींचा.

उन्होंने इसे गलत बताया. पत्र में उन्होंने दावा किया कि बीएमसी के अस्पतालों के डॉक्टर मुस्लिम मरीजों से मामूली ऑपरेशनों से पहले भी दाढ़ी कटवाकर आने को कहते हैं. न्यूज एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए सपा पार्षद ने कहा की दाढ़ी रखना हमारी परंपरा हैं और हमें कई मुस्लिम भाइयों से इसको लेकर शिकायतें मिल रही हैं कि डॉक्टर उन्हें छोटे ऑपरेशन पर भी दाढ़ी कटाने को बोलते हैं.

इसे लेकर बीएमसी कमिश्नर को पत्र लिखा गया हैं

शेख ने कहा की यह मंजूर करने लायक नहीं हैं और इसे लेकर बीएमसी कमिश्नर को पत्र लिखा गया हैं. हमनें डॉक्टरों को निर्देश देने की मांग की हैं कि किसी गंभीर ऑपरेशन पर ही दाढ़ी काटने को कहा जाए. शेख ने यह भी कहा कि बीएमसी ने उनकी शिकायत पर गौर किया हैं और डॉक्टरों को इससे बचने के लिए नीतियां बनाई हैं.

हालांकि इसे तुरंत लागू करना मुश्किल हैं. शेख उन पार्षदों में शामिल हैं जिन्होंने बीएमसी के स्कूलों में सूर्य नमस्कार को अनिवार्य किए जाने का खुलकर विरोध किया था. इस मामले में महाराष्ट्र के सपा अध्यक्ष अबू आजमी भी कूद गए हैं. उन्होंने कहा कि ‘ये डॉक्टर कसाई हैं. बीएमसी अस्पतालों में मुस्लिमों की दाढ़ी जानबूझकर काटी जा रही हैं,

जबकि प्राइवेट अस्पतालों में जरूरत के हिसाब से ही दाढ़ी काटी जाती हैं.’ दूसरी ओर महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और राज्य के मेडिकल शिक्षा मंत्री गिरीश महाजन ने इस मामले को राजनीति बताया हैं. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य और इलाज जैसे काम को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए, डॉक्टर के फैसले में धर्म को नहीं लाना चाहिए| खबर आजतक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *