शिवसेना मोदी सरकार का समर्थन नहीं करेगी

शिवसेना
अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले शिवसेना ने कहा

शिवसेना ने मोदी सरकार को समर्थन नहीं करने का फैसला किया हैं. अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि उनकी पार्टी अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग का बहिष्कार करेगी. राउत ने कहा कि वोटिंग के दौरान शिवसेना सांसद गैरहाजिर रहेंगे.

इससे पहले आज सामना में लिखा गया हैं कि इस समय देश में तानाशाही चल रही हैं और इसका समर्थन करने की जगह वो जनता के साथ जाना चाहेगी. ५४३ सांसदों वाली लोकसभा में इस वक्त ११ सीटें खाली हैं. य़ानी लोकसभा में सांसदों की मौजूदा संख्या ५३२ हैं. इस लिहाज से बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा २६७ सीटों का हैं.

फिलहाल बीजेपी के २७२ सांसदों के साथ सरकार के पक्ष में कुल २९५ सांसद हैं. ये आंकड़ा ३१३ का होता, लेकिन शिवसेना ने अपना रुख साफ नहीं किया हैं. उधर विरोध में १४७ सांसद हैं, जबकि शिवसेना के १८ सांसदों को मिलाकर यह संख्या १६५ हो जाएगी. अब तक ९० सांसद अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेंगे या विरोध, ये फिलहाल साफ नहीं हो पाया हैं.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उद्धव को फोन किया

अब तक माना जा रहा था कि शिव सेना सरकार के साथ जाएगी. गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उद्धव को फोन किया था. इसके बाद खबरें आईं थीं कि शिवसेना मोदी सरकार के समर्थन में वोट करेगी. लेकिन आज सामना में पार्टी ने अप्रत्यक्ष रूप से साफ कर दिया हैं कि वोटिंग में वो मोदी सरकार का समर्थन नहीं करेगी.

हालांकि पार्टी ने अभी तक इसका औपचारिक ऐलान नहीं किया हैं. एआईएडीएमके ने भी अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं. पार्टी के ३७ सांसदों का रुख क्या होगा, ये भी अभी तक साफ नहीं हैं. अविश्वास प्रस्ताव सरकार का इम्तिहान कम बल्कि विपक्ष की परीक्षा ज्यादा हैं, क्योंकि संख्या बल सरकार के साथ हैं.

बस देखना दिलचस्प ये होगा कि सरकार के खिलाफ विपक्ष कितनी मजबूती से टिक पाता हैं| खबर आजतक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *