नवाज़ शरीफ़ बोले मुंबई हमला पाकिस्तान की तरफ़ से हुआ था

नवाज़ शरीफ़
नवाज़ शरीफ़ ने पहली बार माना कि मुंबई हमले में

पाकिस्तानी अख़बार डॉन न्यूज़ को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने इस बात पर भी सवाल उठाए कि हमले से जुड़ी ट्रायल को पूरा क्यों नहीं किया जा रहा. नवाज़ शरीफ़ ने पहली बार माना हैं कि मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकवादियों का हाथ था. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकवादियों के शामिल होने की बात क़बूली हैं.

डॉन न्यूज़ को दिए इंटरव्यू में नवाज़ शरीफ़ ने पाकिस्तान की हालत पर सवाल उठाते हुए कहा कि आतंकी संगठन सक्रिय हैं. चाहे उन्हें नॉन स्टेट एक्टर कहें लेकिन क्या हमें उन्हें सीमा पार जाकर मुंबई में १५० लोगों की हत्या करने देना चाहिए? हम ट्रायल पूरा क्यों नहीं कर सकते? ग़ौरतलब हैं कि पाकिस्तान में अभी भी शरीफ़ की पार्टी की ही सरकार हैं.

ऐसे में सवाल कि क्या शरीफ़ के क़बूलनामे के बाद भी पाक सरकार कुछ करेगी?  शरीफ़ के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए गृह राज्यमंत्री हंसराज अहिर ने कहा हैं कि हम हमेशा से ये कहते रहे हैं जो पूर्व पीएम ने अब क़बूला हैं. उम्मीद हैं कि वहां कि मौजूदा सरकार आतंकवाद रोकने के कारगर क़दम उठाएगी. हाफ़िज़ सईद मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हैं,

भारत इसके तमाम सबूत पाक को पेश कर चुका हैं. पर उसे और उसके साथियों को अब तक सज़ा नहीं मिली हैं. इस बयान के ज़रिए शरीफ़ दरअसल पाकिस्तान की सेना पर सवाल उठा रहे हैं. २०१३ में तीसरी बार प्रधानमंत्री बने नवाज़ शरीफ़ को भ्रष्टाचार के आरोप में जुलाई २०१७ में न सिर्फ पद से हटा दिया गया बल्कि सुप्रीम कोर्ट ने उनके आजीवन चुनाव लड़ने पर भी पाबंदी लगा दी हैं.

पार्टी को जीत दिलाने की कोशिश में जुटे नवाज़ शरीफ़

इसके पीछे की वजह सेना से उनकी दुश्मनी को माना जा रहा हैं. इस साल चुनाव में अपनी पार्टी को जीत दिलाने की कोशिश में जुटे नवाज़ शरीफ़ के बयान से साफ़ हैं कि देश में चुनी हुई सरकार की नहीं बल्कि सेना की चलती हैं. नवाज़ शरीफ़ ने बेशक अब क़बूला तो पर ये पहला मौक़ा नहीं हैं जब मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकियों का हाथ क़बूला गया हो.

२००९ में तत्कालीन पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी सरकार के गृहमंत्री रहमान मलिक ने डेढ़ घंटे की प्रेस कॉंफ़्रेंस कर पूरा ब्योरा दिया था कि मुंबई हमले को किस तरह से पाकिस्तान की ज़मीन से अंजाम दिया गया. हालांकि न तो पीपीपी और न ही नवाज़ की सरकार ने दोषियों को सज़ा दिलायी हैं| खबर एनडीटीवी इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *